दिल्ली पब्लिक स्कूल में हाउस फंक्शन आयोजित - AKJ NEWS | Online Hindi News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Saturday, November 18, 2017

दिल्ली पब्लिक स्कूल में हाउस फंक्शन आयोजित

 
बोकारो:  दिल्ली पब्लिक स्कूल, बोकारो में शुक्रवार की शाम रचनात्मकता से ओत-प्रोत भव्य सांस्कृतिक संध्या का आयोजन हुआ। अवसर था गंगा, जमुना व रावी हाउस उत्सव ‘स्पेक्ट्रम’ का आयोजन। यह शाम अतिथियों व अभिभावकों के लिए एक यादगार शाम रही। कार्यक्रम की प्रस्तुति से लेकर मंच सज्जा, प्रकाश सज्जा, आयोजन स्थल की भव्यता देखने लायक थी। कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथि बोकारो स्टील प्लांट के सीईओ पवन कुमार सिंह, विशिष्ट अतिथि बीएसएल के महाप्रबंधक प्रभारी (कार्मिक एवं प्रशासन) सह डीपीएस बोकारो के प्रो-वाइस चेयरमैन सुधीर कुमार अग्रवाल, महिला समिति बोकारो की अध्यक्ष श्रीमती सितारा रानी सिंह एवं डीपीएस बोकारो की निदेशक सह प्राचार्या डाॅ हेमलता एस मोहन ने संयुक्तरुप से दीप प्रज्जवलित कर किया। इस अवसर पर छात्राओं ने अतिथियों के स्वागत में बहुत ही सुमधुर स्वागत गान ‘मंगलबेला हर्षित आई...’ और स्कूल गीत ‘आया है नया सवेरा, ज्ञान का जहां बसेरा...’ की प्रस्तुति की। स्वागत भाषण गंगा हाउस वार्डेन योगेन्द्र मिश्रा व प्रियंका ने किया। जमुना हाउस वार्डेन प्रीति सिन्हा व प्रणति दाश ने तीनों हाउसों के बच्चों की उपलब्धियों को रेखांकित किया।

मुख्य अतिथि सीईओ श्री सिंह ने अपने संबोधन में डीपीएस बोकारो की उपलब्धियों की सराहना करते हुए कहा कि यह विद्यालय देश के सर्वोत्तम विद्यालयों में से एक है। डीपीएस में पढ़ाई के साथ ही बच्चों के सर्वांगीण विकास पर बल दिया जाता है जो प्रशंसनीय व अनुकरणीय है। यहां शिक्षा प्राप्त करनेवाले बच्चे सौभाग्यशाली हैं। उन्होंने बच्चों से आह्वान किया कि वे पढ़-लिखकर अच्छे नागरिक व अच्छे इंसान बनें। उन्होंने सफलता के लिए सकारात्मक सोच का होना जरूरी बताया। गौतम बुद्ध से संबंधित एक प्रसंग सुनाते हुए उन्होंने कहा कि सकारात्मकता हमें अच्छाई की ओर ले जाती है।
डीपीएस, बोकारो की निदेशक व प्राचार्या डाॅ हेमलता ने अपने संबोधन में विद्यालय की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए कहा कि विद्यालय प्रबंधन बच्चों को क्वालिटी एवं हाॅलिस्टिक एजुकेशन देने के प्रति प्रतिबद्ध है। बदलते परिवेश में आनेवाली चुनौतियों से निबटने के लिए लाइफ स्किल का विकास जरूरी है। बच्चे आनेवाली चुनौतियों का सामना आत्मविश्वास के साथ करें इसके लिए हमें उन्हें तैयार करना होगा। उन्होंने कहा कि विद्यालय का यह प्रयास रहता है कि हर बच्चे की रचनात्मक प्रतिभा का विकास हो और इस बात को ध्यान में रखकर विविध गतिवितिधयां आयोजित होती हैं। कार्यक्रमों में भागेदारी करने से बच्चों की रचनात्मकता का विकास होता है साथ ही उनमें सामाजिक मूल्यों के प्रति भी सजगता आती है। उन्होंने अभिभावकों से अपील की कि वे बच्चों की प्रतिभा के अनुरुप उसे आगेे बढ़ने में मदद करें।
इस अवसर पर बच्चों ने ‘श्रेष्ठ भारत’ (आर्केस्ट्रा), ‘छत्तीसगढ़ी लोकनृत्य‘, राग यमन पर आधारित गीत ‘आई री आली...’ पर तबले के साथ युगलबंदी, भोजपुरी गीत ‘रामजी के भइले जनमवा...’ की सुंदर प्रस्तुति के बाद ‘अंधकार से प्रकाश की ओर’ (समूह नृत्य), ‘सीता स्वयंवर’ (शास्त्रीय नृत्य) व ‘दालखाई’ (उड़िया लोकनृत्य) की बहुत ही मनभावन प्रस्तुति से सबका मन जीत लिया। रचनात्मकता से ओत-प्रोत बच्चों की विविध प्रस्तुतियों की सबने मुक्तकंठ से प्रशंसा की। धन्यवाद ज्ञापन रावी हाउस वार्डेन धर्मेन्द्र कुमार चैहान एवं पिया रानी सेन ने किया। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान से हुआ। इस अवसर पर बोकारो के जिला एवं सत्र न्यायाधीश संजय प्रसाद, कोयलांचल के डीआईजी प्रभात कुमार, बीएसएल के जीएम राजवीर सिंह, पूर्व जीएम श्याम मोहन, डीपीएस चास के प्रो-वाइस चेयरमैन एन मुरलीधरन, डीपीएस बोकारो के उपप्राचार्य प्रवीण कुमार शर्मा, हेडमिस्ट्रेस प्रतिमा सिन्हा, पी शैलजा जयकुमार, डॉ मनीषा तिवारी, हेडमास्टर अंजनी भूषण सहित सभी शिक्षक व काफी संख्या में बच्चों के अभिभावक उपस्थित थे।
-अरुण पाठक

Post Bottom Ad