शनैः वर्ष भर चलती रही साहित्यिक गतिविधियां - AKJ NEWS | Online Hindi News Portal

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Saturday, December 30, 2017

शनैः वर्ष भर चलती रही साहित्यिक गतिविधियां


 बोकारो: इस्पात नगरी बोकारो में कई साहित्यिक संस्थाएं हैं जो वर्ष भर अपनी गतिविधियों से नगर के माहौल को जीवंत बनाये रखती हैं। वर्ष 2017 की साहित्यिक गतिविधियों की चर्चा करें तो साहित्य अकादमी, नई दिल्ली एवं मिथिला सांस्कृतिक परिषद, बोकारो के संयुक्त तत्वावधान में ‘मैथिली-ओड़िया: परस्पर संबंध एवं प्रभाव’ विषयक परिसंवाद तथा मैथिली कवि-सम्मेलन का भव्य आयोजन मिथिला एकेडमी पब्लिक स्कूल के सभागार में हुआ, जिसमें बाहर से आमंत्रित व स्थानीय ख्यातिप्राप्त साहित्यकारों की भागेदारी रही। मैथिली रचनाकारों की प्रमुख संस्था ‘साहित्यलोक’ द्वारा मासिक रचनागोष्ठी, मिथिला सांस्कृतिक परिषद् द्वारा मणिपद्म जयंती पर बहुभाषी कवि सम्मेलन व मिथिला सांस्कृतिक परिषद् के स्वर्ण जयंती पर बोकारो क्लब में आयोजित तीन दिवसीय स्वर्णिम मिथिला महोत्सव सह विद्यापति स्मृति पर्व समारोह मंे भव्य कवि सम्मेलन, जनवादी लेखक संघ द्वारा मासिक गोष्ठियों का आयोजन, खोरठा साहित्य की कुछ उल्लेखनीय गतिविधियों के अलावा अखिल भारतीय साहित्य परिषद द्वारा कुछ गोष्ठियों का आयोजन व राजभाषा पक्ष पर बीएसएल द्वारा कवि सम्मेलन स्मरण करने योग्य हैं। साहित्यलोक द्वारा आयोजित रचनागोष्ठियों की निरंतरता ने यहां के साहित्यक माहौल को ऊर्जा प्रदान किया। ‘घुनपोका’ साहित्य पत्रिका द्वारा आयोजित कुछ आयोजन भी उल्लेखनीय रहा। विभिन्न साहित्यिक गोष्ठियों मंे साहित्यकार बुद्विनाथ झा, सुखनंदन सिंह ‘सदय’, विनय कुमार मिश्र, दया कान्त झा, विजय शंकर मल्लिक ‘सुधापति’, प्रह्लाद चंद्र दास, महेश मेंहदी, भावना वर्मा, तुलानंद मिश्र, उदय कुमार झा, राम नारायण उपाध्याय, भुटकुन झा, दिलकश बोकारवी, डाॅ परमेश्वर भारती, अमीरी नाथ झा ‘अमर’, अशोक श्रीवास्तव, राजीव कंठ, अमन कुमार झा, सुनील मोहन ठाकुर, अरुण कुमार पाठक, श्वेता झा, उषा झा, डाॅ रणजीत कुमार झा, सतीश चंद्र झा, हरिमोहन झा, रणधीर चंद्र गोस्वामी, डाॅ नर नारायण तिवारी, डाॅ नरेन्द्र कुमार राय, शिवनाथ प्रमाणिक, प्रदीप कुमार दीपक, देवेन्द्र प्रसाद कन्धवे, ललन तिवारी, कुमार सत्येन्द्र, त्रिलोकी नाथ टंडन, प्रो. पी एल वर्णवाल, गिरिधारी गोस्वामी उर्फ आकाश खूंटी, बंशी लाल बंशी, मनपूरन गोस्वामी, वेंकटेश शर्मा, सुबोध कुमार शैलांश, अशोक मिश्र, डाॅ सरिता सिन्हा, डाॅ रंजना श्रीवास्तव, ज्योति वर्मा, कस्तूरी सिन्हा, मीनाक्षी अधीर, गंगेश कुमार पाठक आदि की निरंतर सक्रिय सहभागिता रही। 
-अरुण पाठक



Post Bottom Ad