झारखंड

डीपीएस बोकारो ने हर्षोल्लास से मनाया 32वां स्थापना दिवस समारोह

संपूर्ण शिक्षा प्रदान करने में डीपीएस बोकारो की अलग पहचान : पद्श्री अशोक भगत

बोकारो: शैक्षणिक उत्कृष्टता के लिए चर्चित दिल्ली पब्लिक स्कूल, बोकारो का 32वां स्थापना दिवस सोमवार को भव्य सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के साथ मनाया। विद्यालय के अश्वघोष कला भवन में आयोजित स्थापना दिवस समारोह का उद्घाटन मुख्य अतिथि पद्मश्री अशोक भगत, विशिष्ट अतिथि बीएसएल के महाप्रबंधक प्रभारी (कार्मिक एवं प्रशासन) सह डीपीएस बोकारो के प्रो-वाइस चेयरमैन सुधीर कुमार अग्रवाल, डीपीएस बोकारो की निदेशक व प्राचार्या डॉ हेमलता एस मोहन ने संयुक्तरुप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया। विद्यालय की छात्राओं ने स्वागत गीत ‘आपके स्वागत में मंगलदीप जलाएं…’ व स्कूल गीत ‘आया है नया सवेरा ज्ञान का जहां बसेरा, भारत की आन भारत की शान डीपीएस बोकारो हमारा..’ सुनाकर अतिथियों का मन मोह लिया।
मुख्य अतिथि पद्मश्री अशोक भगत ने अपने संबोधन में डीपीएस बोकारो के शैक्षणिक व सामाजिक उपलब्धियों की सराहना करते हुए कहा कि देश के चुनिंदा विद्यालयों में इस विद्यालय की अलग पहचान है। यहां बच्चों को क्वालिटी एजुकेशन देने के साथ ही संगीत, कला, खेल व सामाजिक गतिविधियों में भागेदारी व अपनी प्रतिभा प्रदर्शन का जो अवसर मिलता है वह विशिष्ट है। यहां के बच्चे सौभाग्यशाली हैं जो उन्हें बहुमुखी प्रतिभा संपन्न प्राचार्या मिली हैं। डॉ हेमलता जैसी शख्सियत बहुत कम देखने को मिलती है। श्री भगत ने कहा कि डीपीएस बोकारो में पढ़नेवाले बच्चे सौभाग्यशाली हैं। उन्होंने बच्चों से कहा कि वे देश की आबादी का 20 प्रतिशत हिस्सा हैं उन्हें पढ़-लिखकर समाज के बाकी 80 प्रतिशत की सेवा करनी है। उन्होंने बच्चों से आह्वान किया कि वे जिस क्षेत्र में जाएं वहां इस विद्यालय को याद रखते हुए सर्वश्रेष्ठ देने का प्रयास करें और लोगों की बेहतरी के लिए कार्य करें। इसके पूर्व मुख्य अतिथि श्री भगत ने डीपीएस बोकारो के नवनिर्मित लाइफ स्किल एवं वेलनेस लैब ‘आनंद कक्ष’ का उद्घाटन फीता काटकर किया।
अपने संबोधन में डॉ हेमलता ने मुख्य अतिथि पद्श्री अशोक भगत के व्यक्तित्व व उनके सामाजिक योगदान की चर्चा करते हुए बच्चों को उनसे प्रेरणा लेने की अपील की। उन्होंने विद्यालय की उपलब्धियों को रेखांकित करते हुए कहा कि इस वर्ष सीबीएसई 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं का परिणाम शानदार रहा साथ ही विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में भी विद्यार्थियों ने उल्लेखनीय प्रदर्शन से विद्यालय व नगर का नाम रोशन किया। डॉ हेमलता ने बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए विद्यालय द्वारा आयोजित विभिन्न कार्यक्रमों की चर्चा की और कहा कि शिक्षा से वंचित वर्ग के बच्चों के लिए डीपीएस बोकारो द्वारा संचालित दीपांश शिक्षा केन्द्र 18 वर्षों से व समाज के कमजोर वर्ग की महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के लिए स्थापित ‘कोशिश’ व्यावसायिक प्रशिक्षण केन्द्र विगत 11 वर्षों से निरंतर अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर है। स्वच्छ सनातन, गो ग्रीन, चलो गांव की ओर, जॉय ऑफ गिविंग वीक आदि कार्यक्रमों के जरिए बच्चों में सामाजिकता का विकास किया जा रहा है।
मुख्य अतिथि श्री भगत ने इस वर्ष सीबीएसई 10वीं की बोर्ड परीक्षा में टॉप टेन में स्थान प्राप्त करनेवाले 40 व विभिन्न विषयों के 27 टॉपर्स विद्यार्थियों सहित गणित प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से राज्य स्तर पर आयोजित आर्यभट्ट गणित प्रतियोगिता के राज्य भर से आए 40 विजेता विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया तथा ‘दीपांश शिक्षा केन्द्र’ के कक्षा 1 के 50 बच्चों को निःशुल्क यूनीफॉर्म पैकेट प्रदान किया। विशिष्ट अतिथि श्री अग्रवाल ने सत्र 2017-18 में शत-प्रतिशत उपस्थिति दर्ज करनेवाले कक्षा पांच से 12वीं तक के 315 बच्चों को मेडल व प्रमाण-पत्र प्रदान किया। श्री अग्रवाल ने अपने संबोधन में डीपीएस बोकारो की उपलब्धियों की सराहना करते हुए कहा कि जीवन में सीखने की प्रक्रिया निरंतर जारी रहनी चाहिए। समारोह में छात्र-छात्राआें ने भव्य सांस्कृतिक प्रस्तुतियों से सबका मन जीत लिया। डीपीएस प्राइमरी इकाई में आयोजित स्थापना दिवस समारोह में विद्यालय की निदेशक व प्राचार्या डॉ हेमलता एस मोहन ने गुब्बारा उड़ाकर व केक काटकर सबको स्थापना दिवस की बधाई दी। मुख्य अतिथि बीएसएल के अधिशासी निदेशक (परियोजनाएं) आर सी श्रीवास्तव ने कक्षा नर्सरी से कक्षा 4 तक के 445 विद्यार्थियों को शत-प्रतिशत उपस्थिति के लिए पुरस्कृत किया। उन्होंने डीपीएस के बच्चों की उपलब्धियों की सराहना करते हुए स्थापना दिवस पर विद्यालय परिवार को बधाई दी। डीपीएस सीनियर इकाई में आयोजित स्थापना दिवस समारोह में प्राइमरी इकाई के बच्चों द्वारा प्रस्तुत भरतनाट्यम शैली में ‘तिल्लाना’ नृत्य व सीनियर इकाई के बच्चों की प्रस्तुति नारी शिक्षा पर केन्द्रित ‘जागृति’ नृत्य व ‘होगा कल सुनहरा’ समूहगीत विशेषरुप से प्रशंसनीय रही। इस मौके पर अतिथियों ने विद्यालय की पत्रिका का विमोचन भी किया।
प्रारंभ में स्वागत भाषण वाइस हेडगर्ल स्तुति तनेजा ने किया। मंच संचालन छात्रा तेजस्विनी, प्रेरणा मिश्रा, शौर्य यशु व लीसा गुप्ता ने किया। अंत में धन्यवाद ज्ञापन वाइस हेड ब्यॉय सोहम मोहंती ने किया। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान से हुआ। इस अवसर पर विभिन्न विद्यालयों के प्राचार्य डॉ अशोक सिंह (चिन्मय विद्यालय), जोस थॉमस (जीजीपीएस चास), रश्मि सिन्हा (डीपीएस चास), अनिल कुमार गुप्ता (क्रिसेंट पब्लिक स्कूल), विश्वजीत पात्रा (एआरएस पब्लिक सकूल), रुपा सिन्हा (बोकारो पब्लिक स्कूल), डीपीएस बोकारो के उपप्राचार्य प्रवीण कुमार शर्मा, हेडमिस्ट्रेस पी शैलजा जयकुमार, डॉ मनीषा तिवारी, हेडमास्टर अंजनी भूषण सहित विद्यालय के शिक्षक व विद्यार्थी उपस्थित थे। डीपीएस द्वारा संचालित दीपांश शिक्षा केन्द्र का स्थापना दिवस भी सोमवार को मनाया गया। दीपांश के अलमुनी की ओर से भव्य सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ। डीपीएस की निदेशक व प्राचार्या सह दीपांश शिक्षा केन्द्र की संस्थापक डॉ हेमलता एस मोहन ने अपने संबोधन में दीपांश के बच्चों की प्रगति पर प्रसन्नता जताते हुए कहा कि लक्ष्य निर्धारित कर दृढ़ता के साथ आगे बढें तो गरीबी भी बाधक नहीं बनती है और सफलता जरूर मिलती है।

-अरुण पाठक

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker